क्रेडिट कार्ड के ब्याज से बचने के टिप्स I Tips to Avoid Credit Card Interest

दोस्तों, क्रेडिट कार्ड के जरिये बेमतलब खर्च करना ठीक नहीं होता हैं ! ये आपको कर्ज के बोझ तले दबा सकता हैं साथ ही इसका ब्याज भी कई गुना ज्यादा होता हैं ! क्रेडिट कार्ड के बकाया भुगतान के बाद आपको कई बार 36 से लेकर 48 फीसदी तक का ब्याज चुकाना पड़ सकता हैं !

तो क्या हैं इस ब्याज से बचने के तरीके ? और कैसे क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करे ! जिससे इसके लगने वाले ब्याज से बचा जा सके !

दोस्तों, ये जानने के लिए आपको हमारे साथ आखरी तक बने रहना होगा ! और अगर आप इस फाइनेंस की जानकारी वाले प्लेटफोर्म पर पहली बार आये हैं तो निचे दिए गए सबस्क्राइब बटन पर क्लिक करके सबस्क्राइब जरुर करे !
Enter your email address:


Delivered by FeedBurner

हेल्लो दोस्तों, मैं हूँ मंगलेश और आप हे हमारे प्लेटफोर्म पर चलिए आगे बढ़ते हैं ! No Bakwas!!! Only Finance!!!!

दोस्तों आज हम आपको कुछ टिप्स देने वाले हैं जिसकी मदद से आप क्रेडिट कार्ड का सही तरीके से इस्तेमाल करके उसपे लगने वाले ब्याज को कम कर सकते हैं !

पहला टिप्स - ड्यू डेट पर क्रेडिट कार्ड के ड्यू पेमेंट का भुगतान करे !
क्रेडिट कार्ड किसी भी कम्पनी का हो सकता हैं चाहे वो वीसा हो या मास्टरकार्ड! हर महीने क्रेडिट कार्ड के ड्यू अमाउंट का 5 फीसदी का भुगतान करना जरुरी होता हैं ! शेष राशी अगले महीने के लिए रोल ओवर की जाती हैं ऐसा करने से आपको बिलकुल बचना चाहिये ! यह आपको महीने दर महीने कर्ज के दलदल में फसा सकता हैं ! यदि आप ये मिनिमम 5% की राशी का भी भुगतान ड्यू डेट पर नहीं करते तो लगने वाले ब्याज,पेनेल्टी,टेक्स आदि चार्जेस से आपको कोई नहीं बचा सकता !
इसलिए हमेशा अपनी ड्यू डेट पर बिल अमाउंट का पूरा भुगतान करना चाहिये ! इससे आपको कोई ब्याज नहीं लगेगा ! और साथ ही आप पर अधिक ब्याज का बोझ नहीं बढेगा!

दुसरा टिप्स हैं - ज्यादा ड्यू होने पर खरीदारी रोक दे 
दोस्तों अगर आप क्रेडिट कार्ड रखते हैं तो ये बात आपको अच्छे से पता होगी की खरीदारी पर लगने वाले ब्याज की एक सीमा होती हैं जो आम तोर पर यह 45 दिनों की हैं ! लेकिन ड्यू अमाउंट को रोल ओवर करने के बाद उसपे भी ब्याज लगता हैं ! जिसके कारण आप कर्ज के जंजाल में फस सकते हैं !
इसलिए वर्तमान में अगर आपका ड्यू अमाउंट ज्यादा हैं और आप इसे रोल ओवर कर रहे हैं तो आप थोड़े दिनों के लिए नयी खरीदारी को रोक दे और पेंडिंग ड्यू अमाउंट को शून्य होने दे ! 

तीसरा टिप्स हैं - बलेंस ट्रांसफर 
जी हां दोस्तों, अगर आप हर महीने अपना ओवरड्यू रोल ओवर कर रहे हैं और पूरी बकाया राशी को भरने में असमर्थ हैं तो आप अपने  क्रेडिट कार्ड के बेलेंस को किसी और बैंक में ट्रांसफर करवा सकते हैं ! इससे आपको लगने वाले ब्याज पर राहत मिलेगी ! इसका फायदा यह हैं की जहा आप पहले से 4-5 फीसदी रोलओवर पर ब्याज चुका रहे हैं वही बेलेंस ट्रांसफर पर आपको 2.5 फीसदी से लेकर 3 फीसदी का फायदा हो सकता हैं !

चौथा टिप्स हैं - ड्यू अमाउंट को EMI में करे कन्वर्ट 
कई बार आप अपने क्रेडिट कार्ड से कुछ महंगा सामान भी खरीद लेते हैं ! ऐसे में यदि आपको आने वाली ड्यू डेट पर बकाया भुगतान की चिंता सता रही हैं तो इस बिल को EMI में कन्वर्ट करना फायदेमंद हो सकता हैं ! इससे आपको कम ब्याज  के भुगतान की सहूलियत मिलेगी !

पांचवा टिप्स आपके लिए हैं - ATM से नगद न निकाले 
कई बार किसी कारण से आपको अर्जेंट कैश की जरुरत पड़ सकती हैं !लेकिन ध्यान रखे आप अपने क्रेडिट कार्ड के द्वारा कभी भी ATM से नगद न निकाले क्योकि इसपे भारी भरकम ब्याज आपको चुकाना पड़ सकता हैं ! नगद निकालने की बजाये आप क्रेडिट कार्ड लोन ऑप्शन को चुन सकते हैं ! इसमें आपको राशी एक समय अवधि के लिए सामान्य ब्याज पर मिल जाती हैं जिसे आपको मासिक किश्तों में चुकाना पडता हैं !

छटा और आखरी टिप्स हैं - विदेश में क्रेडिट कार्ड के उपयोग से हमेशा बचे 
यदि आप किसी यात्रा पर विदेश जाते हैं तो ध्यान रखे कभी भी क्रेडिट कार्ड से कोई भुगतान करने से बचे ! क्योकि विदेशी मुद्रा पर क्रेडिट कार्ड पर कन्वर्शन चार्ज देना होता हैं जो आपके ड्यू अमाउंट में जोड़ दिया जाता हैं ! इसलिए हमेशा जब भी विदेश जाए तो क्रेडिट कार्ड से खरीदारी या भुगतान करने से परहेज करे !


मेरा मानना हैं की इन टिप्स को फोलो करके आप आपके क्रेडिट कार्ड पर लगने वाले ब्याज को कम कर सकते हैं !
अगर आपको ये जानकारी पसंद आयी हैं तो इसे लाइक जरुर करे और साथ ही अपने दोस्तों या रिश्तेदारों में ये जानकारी शेयर करके उन्हें भी क्रेडिट कार्ड के ब्याज से बचाए !

क्रेडिट कार्ड और फाइनेंस से जुडा कोई प्रश्न यदि आपके मन में हैं तो हमें कमेंट्स करके बताये ! 

हमारे साथ बने रहेने के लिए धन्यवाद !!! जय हिन्द !! जय भारत !!!

SHARE

Manglesh Rao

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें