SBI Free account Opening | How to Open a Free bank Account in SBI.


दोस्तों यदि आपके पास अभी तक कोई भी बैंक खाता नहीं है और नए साल में अपना बैंक खाता खोलने जा रहे हैं तो भारत का सबसे बड़ा सरकारी एस.बी.आई. आपके लिए एक खास खाता लेकर आया है ! खास बात यह है कि इस अकाउंट को खोलने के लिए आपको कोई फीस या शुल्क नहीं देनी है, यानी आप फ्री में इस बैंक खाते को खोल सकते हैं ! इस बैंक खाते पर आपको कई अन्य बैंकिंग सुविधाएं मिलेंगी, जिससे आप आसानी से फ्री में बैंकिंग सेवाओं का लाभ ले सकते हैं!

आइए आपको जानकारी देते हैं इस फ्री बैंक खाते के बारे में...

दोस्तों,भारतीय स्टेट बैंक ने देश के सभी लोगों को बैंकिंग सेवाओं से जोड़ने के लिए इस बैंक खाते को शुरू किया है! इस बैंक खाते को बेसिक सेविंग डिपाजिट अकाउंट नाम दिया है! इस खाते को 18 साल से अधिक उम्र का कोई भी व्यक्ति खोल सकता है! यह खाते को एकल और जॉइंट दोनों तरीके से खोला जा सकता है!

सबसे पहले बात करते हैं कैसे खोला जा सकता है यह अकाउंट?
दोस्तों, इस खाते को आनलाइन और आफलाइन दोनों तरीके से खोला जा सकता है।
आप इस खाते को एसबीआई की आधिकारिक वेबसाइट 

 https://www.sbi.co.in/portal/hi/web/personal-banking/basic-savings-bank-account  

पर जाकर भी आनलाइन खोल सकते हैं जिसकी लिंक मेने वीडियो के डिस्क्रिप्शन में दे दी हैं !  इसके अलावा आप एसबीआई की किसी भी शाखा में जाकर आफलाइन तरीके से भी इस अकाउंट को खुलवा सकते हैं !
ध्यान रखे दोस्तों यह खाता केवल केवाईसी पूरा करके खोला जा सकता है।  और आप इसे जीरो बैलेंस पर पर भी ओपन कर सकते हैं !
दोस्तों इसकी एक और खासियत हैं की इस खाते में न्यूनतम या अधिकतम बैलेंस रखने की कोई सीमा नहीं है। साथ ही आप अपने पुराने बचत खाते को भी बेसिक सेविंग खाते में बदल सकते हैं। 


दोस्तों अब बात करते हैं इस खाते के फायदों की
- इस खाते पर आप सेविंग बैंक खाते वाले सभी लाभ ले सकेंगे।
- यह खाता खोलने पर आपको डेबिट कार्ड और चेकबुक की सुविधा भी मिलेगी।
- आप इस खाते से जुड़े डेबिट कार्ड से हर माह चार ट्रांजेक्शन कर सकते हैं।
- आप इस खाते से आरटीजीएस, एनईएफटी, इंटरनेट बैंकिग आदि सुविधाएं भी ले सकते हैं!
- इस खाते को बंद करने पर भी आपको कोई फीस नहीं देनी होगी!
तो दोस्तों आपको भी SBI में फ्री में अपना बैंक अकाउंट ओपन करना हैं तो इस जानकारी के आधार पर कर सकते हैं !


SHARE

Manglesh Rao

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें