सभी प्रकार के LOAN की जानकारी के साथ CREDIT SCORE,खराब क्रेडिट स्कोर आदि की जानकारी, इसी के साथ होम लोन,पर्सनल लोन,बिजनेस लोन,तत्काल लोन, एजुकेशन लोन,इमरजेंसी लोन की बारीकियो को समझे

12/12/2019

Credit Report में Closed, Settled और WO Flag क्या है

Credit Report में क्लोज,सेटल्ड और राईटऑफ फ्लेग क्या हैं written off on credit report,Loan written off,suit filed and written-off meaning in hindi,suit filed(wilful default) and written-off meaning in hindi,Persnal Loan WO in Credit Repor , What is a "closed" flag in credit report,Closed in Credit Report,What is Stalled flag in Credit Report, Loan settled in Credit Report, Loan default in Credit Report



Credit Report में Closed, Settled और WO Flag क्या हैं – अच्छा Credit Score आपको न केवल आसानी से Loan दिलाने में मदद करता हैं . CIBIL, HIGHMARK तथा इक्युफेक्स जैसी Credit Rating कम्पनिया आपके Loan की समस्त जानकारिया Bank और फाइनेंस कम्पनियों से प्राप्त करके आपके Credit Score का निर्धारण करती हैं. सामान्यत: यह स्कोर 750 से ज्यादा होने पे आपको Loan मिलने में आसानी हो जाती हैं और इससे खराब स्कोर पर Loan लेने में मुश्किलों का सामना करना पड़ता हैं.

लेकिन आपकी Credit Report को लेकर तथा इसके अच्छे और बुरे स्कोर को लेकर कही ज्यादा जरुरी हैं इस रिपोर्ट को सही तरीके से समझना. Credit Report के सभी पक्ष और सेक्शन को समझना आपके लिए इसलिए भी महत्वपूर्ण हैं क्योकि इन सेक्शन को समझकार आप बारीकी से आपके Credit Score को Improve सकते हैं साथ ही एक Good Credit Score बनाए रख सकते हैं.


Credit Report में अकाउंट सेक्शन क्या हैं

Credit Report में सबसे महत्वपूर्ण सेक्शन होता हैं “अकाउंट सेक्शन” इस सेक्शन के अंतर्गत आपके द्वारा लिए गए क्रेडिट कार्ड,Bank क्रेडिट लिमिट के साथ Loan जैसे होम Loan, Personal Loan,बिजनेस Loan,व्हीकल Loan,ओवरड्राफ्ट Loan,कज्युमर ड्यूरेबल Loan या अन्य सभी Loan की जानकारी के साथ उन सभी Bank या फाइनेंस कम्पनियों के नाम की जानकारी होती हैं जहा से आपने ये Loan या क्रेडिट सर्विस ली हैं.



What is Closed, Settled and Write-off Flag in Credit Report HINDI - इसके अलावा अकाउंट सेक्शन में इन जानकारियों के साथ आप Loan अकाउंट नंबर,ओनरशिप अर्थात यह Loan आपका हैं या आप इस Loan में ग्यारंटर हैं आदि से जुडी जानकारी भी प्रदर्शित होती हैं. इतना ही नहीं Loan का अंतिम भुगतान कब किया गया था. Loan की स्वीकृत राशि क्या हैं . Loan का वर्तमान बेलेंस क्या हैं आदि जानकारियों का भी स्पष्ट उल्लेख अकाउंट सेक्शन में प्रदर्शित होता हैं. इसी के साथ यहाँ एक महत्वपूर्ण जानकारी यह होती हैं की वर्तमान या पिछले Loan की पिछले 3 सालो में आपने किश्तों का भुगतान किस प्रकार किया हैं .

Credit Report में Account Section का सबसे महत्वपूर्ण पक्ष होता हैं स्थिति या “स्टेट्स” यह आपके अच्छे बुरे Loan को इंगित करता हैं. यह इंगित करता हैं की उक्त लिए गए Loan का स्टेट्स सामान्य हैं हैं या असामान्य. मुख्यत: यह तीन Flag को दर्शाता हैं.

Credit Report में “बंद” Flag क्या हैं


किसी Credit Report के अकाउंट सेक्शन में किसी Loan या Credit Card के स्टेट्स में यदि “Closed” Flag दिखाई डेटा हैं तो इसका मतलब हैं की उस Loan की समस्त Loan राशि को जमा कर दिया गया हैं और इस Loan Account को Closed कर दिया गया हैं. जब भी आप अपने किसी Loan को पूरी तरह से Close कर देते हैं या Loan की EMI ख़त्म हो जाती हैं तो Bank या Finance Company द्वारा Credit Reting एजेंसीयो को आपकी Credit Report में उक्त Loan को बंद दर्शाने की रिपोर्ट भेजी जाती हैं जिसके बाद Credit Reting कम्पनी आपके Credit Report में उक्त खाते हो Close Status में दर्शाते हैं.
यदि आपके Credit Report में कोई ऐसा Loan दर्शित हो रहा हैं जिसका Complete Payment आपने कर दिया हैं लेकिन रिपोर्ट में अभी भी वो Closes नहीं बता रहा हैं. वैसे Bank जब भी कोई Loan Closed करती हैं तो आपको एक LOAN NOC प्रदान करती हैं.


Credit Report में “Settled” Flag क्या हैं


मान लीजिये के आपका कोई 1 लाख का Loan चल रहा था तथा वर्तमान में उसका Balance 20 हजार रूपये हैं और आप चाहते हैं की इसे Close कर दिया जाए. Bank और आपकी आपसी बातचीत में ये निर्णय लिया की इस Loan को 20 हजार के बजाये 10 हजार के Settlement के तौर पर बंद कर दिया जाये और ऐसा हो भी जाता हैं तो Bank Credit Rating एजेंसी को उक्त Loan के सम्बन्ध में loan Settled के रूप में रिपोर्ट करेगी. यह स्थित तब और बनती हैं जब की कोई व्यक्ति पर Loan के Payment का बोझ हो और वो माह दर माह किश्त जमा करने में असमर्थ होता जा रहा हैं इसके फलस्वरूप जहा एक और उसका Loan Overdue बढ़ रहा हैं वही Loan Late Payments charges और Loan Bouncing Charges और उसपर लगे ब्याज से यह अमाउंट अधिक होता जा रहा हैं. अमूमन ऐसे मामलो में Loan लेने वाले चार्जेस,Loan Penalty आदि को माफ़ करने की गुजारिश Bank या Finance Company से करते हैं और Bank और Finance Company मूल राशि को प्राप्त करके शेष चार्जेस Settled के रूप में दर्शा देती हैं. यह स्थिति अगर आपके Credit Record में 1 से ज्यादा बार दर्शित होती हैं तो यह आपके Credit Score के लिए ठीक नहीं होती हैं.


Credit Report में राइट-ऑफ क्या होता हैं


जब किसी Loan के बकाये का भुगतान 6 माह से ज्यादा समय तक किया जाता तो Bank या फाइनेंस कंपनी अनुमानित तौर पर उस खाते को डूबत मानती हैं. तथा Credit Report में Due के साथ WO दर्शाती है. सही शब्दों में समझे तो यदि कोई ब्यक्ति पूरी तरह से किसी Loan को चुकाने में असमर्थ हो जाता हैं तो उस Loan को write-off Closed में दर्शा दिया जाता हैं. अब Loan देने वाली Bank उक्त Loan को Credit Rating कम्पनी को बकाये के साथ बंद दर्शाती हैं. यह स्थिति सबसे खराब होती हैं. और इस तरह के Flag के बाद नया Loan मिल पाना लगभग नामुमकिन सा हो सकता हैं.

कोई टिप्पणी नहीं: